राजस्थान शिक्षा विभाग समाचार 2023

Daily KnowledgeRaj StudentsUncategorized @hi

इतिहास | कक्षा 12 | अतिरिक्त अंक प्राप्त करने हेतु महत्वपूर्ण जानकारी

Ajanta Padmapani | Shalasaral

प्रिय Raj Students हमने आपका ग्रुप बनाया था। आज से हम कला संकाय के विद्यार्थियों हेतु बेमिसाल सामग्री रोजाना प्रस्तुत करेंगे। आज हम कक्षा 12 व कक्षा10 के विद्यार्थियों हेतु वास्तविक पठनीय सामग्री प्रस्तुत कर रहे है। आप हमसे निरन्तर सम्पर्क में रहिये। यह सामग्री प्रतियोगी परीक्षा के लिए परीक्षार्थियों हेतु बहुत अधिक उपयोगी है।

भारतीयों ने इतिहास को विद्या- ज्ञान के एक विशिष्ट अंग के रूप में स्वीकार किया था तथा ‘पंचम वेद’ के रूप में ‘इतिहास’ को उच्च मान्यता प्रदान की थी। उनके इतिहास में पुराण, इतिवृत्त, आख्यायिका, धर्मशास्त्र, अर्थशास्त्र और नीतिशास्त्र सभी कुछ होता था। प्राचीन भारतीय इतिहास की जानकारी के समस्त साधनों को हम मुख्यतः चार वर्गों में बाँट सकते हैं, जो निम्नलिखित हैं-

  • भारतीय धर्मग्रन्थ
  • ऐतिहासिक एवं समसामयिक ग्रन्थ
  • पुरातत्व सम्बन्धी साक्ष्य
  • विदेशियों द्वारा प्रस्तुत साक्ष्य

भारतीय धर्मग्रंथ

प्राचीनकाल में भारत में ब्राह्मण, बौद्ध एवं जैन-इन तीन धर्मों की प्रधानता थी, अतः इनके धर्मग्रन्थ भी अपनी-अपन विशेषताओं के साथ तीन वर्गों में विभक्त हैं। सर्वप्रथम हम ब्राह्मण धर्मग्रन्थों का उल्लेख करेंगे-

ब्राह्मण धर्मग्रन्थ

वेद

images 2023 01 14t1628192436167326889728058. | Shalasaral
वेद। www.shalasaral.com

वेद चार हैं-ऋग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद एवं अथर्ववेद। इनमें ऋग्वेद सबसे प्राचीन है। वैदिक संहिताओं में वे मन्त्र और सूक्त संगृहीत हैं, जिनका निर्माण (दर्शन) प्राचीन आर्य ऋषियों ने किया था। इनका प्रयोजन किसी देवता-विशेष की स्तुति है, पर प्रसंगवश कहीं कहीं इनमें अपने समय की राजनीतिक घटनाओं का उल्लेख हो गया है।

ब्राह्मण

यज्ञ के विषयों का प्रतिपादन करने वाले ग्रन्थ ‘“ब्राह्मण” कहलाये। ये वेदों पर आधारित हैं। प्रत्येक वेद के पृथक्-पृथक् ब्राह्मण ग्रन्थ हैं । ऋग्वेद का ऐतरेय और कौषितको ब्राह्मण, यजुर्वेद का शतपथ ब्राह्मण, सामवेद का पंचविश ब्राह्मण और अथर्ववेद का गोपथ ब्राह्मण। ब्राह्मण ग्रन्थों में अनेक उपाख्यानों का उल्लेख है जो तत्कालीन सामाजिक दशा पर प्रकाश डालते हैं।

आरण्यक

images 2023 01 14t1629552858773498051462864. | Shalasaral

ब्राह्मण ग्रन्थों के पश्चात् आरण्यक ग्रन्थों का स्थान है। ये ग्रन्थ वनों की एकान्तता में पढ़े जाते थे। इनमें चिन्तन शील ज्ञान पक्ष पर जोर दिया गया है।

उपनिषद

images 2023 01 14t1631022456697241956144114. | Shalasaral

आरण्यक ग्रन्थों के पश्चात् उपनिषदों की रचना की गई। प्रमुख उपनिषदों के नाम इस प्रकार है-ईशावास्य, केन, कठ, प्रश्न, मुण्डक, माण्डुक्य, ऐतरेय, तैत्तिरीय, श्वेताश्वतर, छान्दोग्य, बृहदारण्यक और कौपितकी।

वेदांग

images 2023 01 14t1632133834170801993394508. | Shalasaral

वेदांग छ : हैं – शिक्षा ( स्वरशास्त्र), कल्प (कर्मकाण्ड), व्याकरण, निरुक्त ( शब्द व्युत्पत्ति विद्या), छन्द एवं ज्योतिष ये सब वेदों के अंग समझे जाते हैं।

सूत्रग्रन्थों का क र्मकाण्ड से सम्बन्ध होने के कारण ब्राह्मण एवं आरण्यक ग्रन्थों से सीधा सम्बन्ध है। इनकी संख्य तीन है— श्रीतरत्र गुह्यसूत्र और धर्मसूत्र श्रौतसूत्र।

सूत्रग्रन्थ

images 2023 01 14t1633266425013149763035851. | Shalasaral

स्मृति साहित्य

images 2023 01 14t1634322469953145297421647. | Shalasaral

स्मृतियों में मरतुष्य के सम्पूर्ण जीवन के विविध कार्यों के नियमों एवं निषेधों का उल्लेख मिलता है। स्मृतियों में तत्कालीन सामाजिक संगठन, सिद्धान्तों, नियमों, प्रथाओं, रीति-रिवाजों आदि की महत्त्वपूर्ण जानकारी मिलती है।

महाकाव्य

ramcharitmanas by tulsi das682299510703728099 | Shalasaral

ब्राहण धर्मग्रन्थों में भारत के दो प्राचीन महाकाव्यों- रामायण और महाभारत का भी विशेष स्थान है।

पुराण

images289296686365971723589178. | Shalasaral

पुरणों की संख्या 18 है। इन ग्रन्थों में महत्त्वपूर्ण ऐतिहासिक सामग्री है। इनमें अति प्राचीन काल से परम्परागत धर्म, इतिहास, सृष्टि और प्रलय, आख्यान, विज्ञान आदि का वर्णन है।

बौद्ध धर्मग्रन्थ

प्रारम्भिक बौद्ध ग्रन्थ पालि भाषा में लिखे गये थे, परन्तु बाद में बौद्ध विद्वानों ने संस्कृत भाषा में भी अपने ग्रन्थ लिखे।q

पिटक ग्रन्थ

images 2023 01 14t1637391095448262652305906. | Shalasaral

बौद्धों के धार्मिक सिद्धान्त मुख्यतः पिटक ग्रन्थों में संगृहीत हैं। ये तीन हैं—विनयपिटक, सुतपिटक और अभिधम्मपिटक। तीन की संख्या के कारण इन्हें “त्रिपिटक ” श्री कहा जाता है।

जातक ग्रन्थ

bhutanese painted thanka of the jataka tales2C 18th 19th century2C phajoding gonpa2C thimphu2C bhutan8632449313274905164. | Shalasaral

त्रिपिटक के बाद जातक ग्रन्थ आते हैं। ऐतिहासिक दृष्टि से जातक – कथाओं का बहुत महत्त्व है। जातकों में महात्मा बुद्ध के पूर्वजन्मों की काल्पनिक कथाएँ लिखी हैं, जो अपने समय के समाज का सुन्दर चित्र हमारे सम्मुख उपस्थित करती हैं। इन कथाओं में उस युग के अनेक राजाओं का इतिवृत भी कहीं-कहीं प्रसंगवश दे दिया गया है।

अन्य पालि ग्रन्थ

1280px burmese pali manuscript6021148313640272628 | Shalasaral

इतिहास निर्माण में सहायक अन्य पालि बौद्ध ग्रन्थों में तीन ग्रन्थ विशेष उल्लेखनीय हैं, जिनके नाम हैं-मिलिन्द पन्हो, दीपवंश और महावंश।

संस्कृत बौद्ध ग्रन्थ

पालि भाषा के अलावा संस्कृत में भी बहुत से बौद्ध ग्रन्थ लिखे गये, जिनमें प्राचीन भारतीय इतिहास पर पर्याप्त प्रकाश डाला गया है। इनमें महावस्तु ललित विस्तार, बुद्ध चरित्र, सौंदरानन्द काव्य, दिव्यावदान, मंजूश्री-मूलकल्प आदि उल्लेखनीय हैं।

जैन धर्मग्रन्थ

220px suryaprajnapati sutra7118867544982890090 | Shalasaral

बौद्ध साहित्य के समान जैन साहित्य भी प्राचीन भारतीय इतिहास के अनुशीलन के लिए अत्यधिक उपयोगी सामग्री उपस्थित करता है। ईसा की पहली सदी से छठी सदी तक के काल में अनेक ग्रन्थों की रचना हुई जिनमें “परिशिष्ट पर्व ” भद्रबाहु चरित्र, जैन आगम ग्रन्थ, व्याख्या एवं टीकाएँ उल्लेखनीय हैं। ऐतिहासिक दृष्टि से परिशिष्ट पर्व ” महत्त्वपूर्ण ग्रन्थ है।

भद्रबाहु चरित्र में प्रसिद्ध जैन विद्वान् भद्रा तथा चन्द्रगुप्त मौर्य से सम्बन्धित घटनाओं का उल्लेख मिलता है। जैन धर्मग्रन्थों में जैन आगम ग्रन्थों का महत्त्व सबसे अधिक है। जैन आगम 12 अंगों में विभाजित है, जिनमें आधारंग सुन में जैन भिक्षु के आचार सम्बन्धी नियम बतलाये गये हैं।

images (10)1376383488164839207 | Shalasaral
Related posts
Daily KnowledgeEducation Department Latestshala Darpanनारी शक्ति

शाला दर्पण |विद्यालयों हेतु आई एम शक्ति उड़ान योजना राजस्थान 2023 के सम्बन्ध में आवश्यक जानकारी, यूजर मैन्युअल व FAQ

Daily KnowledgeDaily MessageEmployment NewsPDF पीडीएफ कॉर्नरRPSC राजस्थान लोक सेवा आयोगरोजगारसमाचारों की दुनिया

युवा मंच पत्रिका | युवाओं हेतु अत्यंत महत्वपूर्ण सूचनाओं का नियमित संकलन फरवरी 2023

Daily MessageRaj StudentsRKSMBK

RKSMBK | दीक्षा पोर्टल पर विद्यार्थियों हेतु विषय सामग्री

Educational NewsRaj StudentsSocial Media

NCC | महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम विद्यालय, चैनपुरा, जोधपुर