राजस्थान शिक्षा विभाग समाचार 2023

लेखक साथी

सूरज भैया जी आओ ना | कवि श्री नवल किशोर जी ” नवल ” की अदभुत रचना

IMG 20221230 WA0093 | Shalasaral

श्री नवल किशोर जी अपनी ह्रदय की भावनाओं को अनूठे ढंग से शेयर करते है। परिवेश से उनका जुड़ाव एक विशिष्ट अनुभूति है। आइये, उनके बिचारो स3 अवगत होने का एक निरन्तर प्रयास जारी रखते है।

सूरज भैया जी आओ ना!


सूरज भैया जी आओ ना!
धूप फटा- फट लाओ ना!

जमकर बैठा यहां कोहरा!
इसको झटपट भगाओ ना!

ठण्ड से तो सब काँप रहे हैं!
जल्दी से तपन जलाओ ना!

कल ही तो हुई थी ये बारिश!
तो इन बादलों को हटाओ ना!

रहम करो और धूप खिलाओ!
‘नवल’ अन्धेर गर्दी मचाओ ना!

©️ नवल किशोर ‘नवल’

img 20221230 wa00937011176750242976217 | Shalasaral

किस तरह से हमको सताते हैं वो!


हमें ख्वाबों में आकर जगाते हैं वो!
कुछ इस तरह से इश्क निभाते हैं वो!

कैसे हम बताएँ उनकी गुस्ताखियाँ!
किस तरह से हमको सताते हैं वो!

खेलते हैं जब हम उनकी जुल्फों से !
सिमट कर मेरे पहलू में लजाते हैं वो!

हो जाते हैं कभी नज़रों से ओझल भी!
बेवजह धड़कने दिल की बढ़ाते हैं वो!

खुलती है आँखें जब ख़्वाब से नवल!
यूँ करके बेवफ़ाई हरदम रुलाते हैं वो!

©️ नवल किशोर ‘नवल’

Related posts
लेखक साथी

मनाएं आज खुशियां हम,पर्व गणतंत्र है यारो।

लेखक साथी

बसन्तपंचमी व गणतंत्र दिवस पर एक कविता

लेखक साथी

राजु सारसर "राज" | तुम्हारे लौट आनें की खुशी में

लेखक साथी

मिट्टी का बना हूँ मैं तो बिखरने से क्यूँ डरूँ?