राजस्थान शिक्षा विभाग समाचार 2023

लेखक साथी

राजु सारसर “राज” | तुम्हारे लौट आनें की खुशी में

20230115 111146 | Shalasaral

राजु सारसर “राज” | तुम्हारे लौट आनें की खुशी में

मा नें
बना कर रख लिए हैं
तिल-शक्कर के लड्डू|


पतंगों ने पंख पसारे हैं
आकाश के आंगन में |
बच्चों ने गड़ा दी है आंखें,
पतंगों की पीठ पर |
पंजाब के खेतों में,
मुस्कान बिखेरता गेहूं,
तैयार खड़ा है तुम्हारे वारने लेने को,
राजस्थान के धोरों में,
चने के फूल मुस्कुराने लगे हैं,
हल्का सा जामुनीपन लिए हुए,
सरसों फूली नहीं समा रही है,
पोंगल-बिहू के पकवानों की खुशबू,
सुदूर पूर्व से दक्षिण तक पसर गई है।
हिमाचली-कश्मीरी,
वादियों ने भर ली है झोलियां फूलों से,
तुम्हारे स्वागत को,
महाकवि कन्हैयालाल सेठिया की तरह,
मैं भी लिख रहा हूँ एक कविता |
सबने करली है तैयारियां,
अपने-अपनें अंदाज़ से |

ओ, सूरज ! तुम्हारे लौट आने की खुशी में |

राजू सारसर “राज”
मु.पॉ. किशनपुरा दिखनादा
हनुमानगढ़ (राजस्थान)

Related posts
लेखक साथी

मनाएं आज खुशियां हम,पर्व गणतंत्र है यारो।

लेखक साथी

बसन्तपंचमी व गणतंत्र दिवस पर एक कविता

लेखक साथी

मिट्टी का बना हूँ मैं तो बिखरने से क्यूँ डरूँ?

लेखक साथी

एक सुंदर कविता | उड़ाएँ प्यार की पतंग