‘म्हारो राजस्थान’ कला शिविर और प्रदर्शनी का शुभारम्भ 6 नवम्बर 2022 को ।

  • 6 नवम्बर 2022, रविवार को जयपुर के जवाहर कला केन्द्र में ‘म्हारो राजस्थान’ कला शिविर और प्रदर्शनी का शुभारम्भ
  • राजस्थानी लोक-कला, संगीत व संस्कृति की धरोहर से रूबरू कराएगी

जयपुर, 5 नवंबर। जयपुर कला महोत्सव के अन्तर्गत 6 नवम्बर 2022, रविवार को जयपुर के जवाहर कला केन्द्र में ‘म्हारो राजस्थान’ कला शिविर और प्रदर्शनी का शुभारम्भ होगा। कार्यक्रम का आयोजन डेल्फिक काउंसिल ऑफ राजस्थान द्वारा किया जा रहा है। प्रदर्शनी का उद्घाटन सुबह 10.00 बजे इंटरनेशनल डेल्फिक काउन्सिल के महासचिव श्री रमेश प्रसन्ना करेंगे।    

images2826297890485483638593463. | Shalasaral
Getty image

डेल्फिक काउंसिल ऑफ राजस्थान की अध्यक्ष श्रेया गुहा ने बताया कि यह प्रदर्शनी न केवल यहां के लोगों को राजस्थानी लोक-कला, संगीत व संस्कृति की धरोहर से रूबरू कराएगी, बल्कि इसकी खुशबू विदेशों तक भी जाएगी। उन्होंने कहा कि यह आयोजन हमारे प्रदेश की संस्कृति के संरक्षण और संवर्धन के लिए भी महत्त्वपूर्ण साबित होगा।   

श्रीमती गुहा ने कहा कि कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर जर्मनी की श्रीमती इन्स लेक्सचस उपस्थित रहेंगी। इनके साथ आर्ट् स्कूल के 10 विद्यार्थी भी भाग लेंगे।साथ ही इंटर्नेशनल डेल्फिक काउंसिल के महासचिव श्री रमेश प्रसन्ना एवं डेल्फिक काउंसिल ऑफ जम्मू एंड कश्मीर के अध्यक्ष श्री अशोक सिंह भी कार्यक्रम के दौरान उपस्थित  रहेंगे।

श्रीमती गुहा ने आर्ट कैंप में आमंत्रित कलाकारों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस वर्ष में आर्ट कैंप में श्री विरेंद्र बन्नू, श्री सुमित सेन, डॉ राजेंद्र प्रसाद,श्री अमित काला, श्री महेश कुमार कुमावत, श्री देबाब्रत दास, श्री संत कुमार, श्री संजय कुमार सेठी, सुश्री देविका शेखावत, सुश्री तरन्नुम आरा की कलाकृतियों को प्रर्दशित किया जायेगा। इस वर्ष प्रदर्शन के साथ ही कलाकरों की कलाकृतियों के विक्रय भी किया जायेगा।   

images2825296156572513278692. | Shalasaral
Getty image

डेल्फिक कौंसिल ऑफ राजस्थान द्वारा जवाहर कला केंद्र में ही विगत 25–26 जून को आयोजित रंगसार आर्ट एग्जिबिशन में 15 कलाकारों की कलाकृतियों का प्रदर्शन किया गया था।    

गौरतलब है कि डेल्फिक कौंसिल ऑफ राजस्थान कला को प्रोत्साहित व संरक्षण करने में एक प्लेटफॉर्म की तरह कार्य कर रहा है, जिससे न केवल विलुप्त होती कलाओं को आधार मिलेगा बल्कि नई पीढ़ी के लिए कला आधार सेतु भी बनेगा।